हरिद्वार : कांवड़ मेला शांतिपूर्वक संपन्न हुआ. कांवड़ मेले में करीब 4 करोड़ कांवड़िये पानी लेने हरिद्वार पहुंचे। लेकिन कांवड़ मेला खत्म होते ही उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों के डरावने आंकड़े सामने आने लगे हैं. राज्य में मंगलवार को 282 कोरोना संक्रमित मिले। इसमें हरिद्वार में भी 22 संक्रमित मिले। हरिद्वार प्रशासन के लिए कोरोना से निपटना बड़ी चुनौती बन गया है।

गुरु पूर्णिमा से शुरू हुआ कांवड़ मेला सावन की शिवरात्रि पर शिवरात्रि पर शिवालयों में किए गए जलाभिषेक के साथ संपन्न हुआ। कांवड़ मेला दो साल बाद लग रहा था, इसलिए उम्मीद थी कि बड़ी संख्या में शिव भक्त हरिद्वार पहुंचेंगे। अनुमान सही साबित हुआ है और करीब चार करोड़ कांवड़िये हरिद्वार से गंगाजल लेकर अपने-अपने गंतव्य को रवाना हो गए। लेकिन अब कोरोना के बढ़ते मामलों ने सरकार को फिर से सतर्क कर दिया है. उत्तराखंड सरकार की एसओपी के तहत सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना जांच का पालन करते हुए हरिद्वार प्रशासन एक बार फिर मास्क पहनने पर जोर देने जा रहा है।

जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे का कहना है कि कांवड़ मेला संपन्न हो चुका है. अब कोरोना एसओपी के तहत कार्रवाई की जाएगी। एक-दो दिन में कोरोना के नियमों का सख्ती से पालन कराया जाएगा। मुख्य जोर मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग पर रहेगा। इसके अलावा लोगों को कोरोना टीकाकरण और बूस्टर डोज के बारे में जागरूक किया जाएगा। जिले में कोविड टेस्टिंग बढ़ाने पर भी जोर दिया जाएगा।

श्रीनगर : बदरीनाथ हाईवे का 50 मीटर हिस्सा धंसा देवप्रयाग में पंत गांव के पास , विकासनगर में भी गिरे बोल्डर