लगातार 89वें दिन भी ब्यासी बांध से पुर्ण रुप से प्रभावित एकमात्र राजस्व गांव लोहारी का धरना प्रदर्शन जारी रहा।

लोहारी के ग्रामीणों द्वारा वर्तमान प्रदेश सरकार की दोहरी कार्यशैली तथा खराब नीतियों के विरुद्ध जमकर नारेबाजी करते हुए अपना रोष व्यक्त किया।
लोहारी के काश्तकारों ने कहा की वर्तमान प्रदेश सरकार हमारी समस्याओं को अनदेखा कर रही है,विगत 89 दिनों से लगातार आंदोलनरत ग्रामीणों की पीडा को समझना तो दूर राज्य सरकार के मंत्रीगण ग्रामीणों से संवाद तक स्थापित करने के भी पक्ष में नहीं है जिस कारण लोहारी के ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त है। वर्तमान प्रदेश सरकार लोहारी के ग्रामीणों को जमीन देने के बिल्कुल भी पक्ष में नहीं है जिसका जीता जागता उदाहरण हाल ही में विधानसभा की कार्यवाही में देखने को मिला,परन्तु लोहारी के ग्रामीण जमीन के बदले जमीन नहीं मिलने तक पिछे नहीं हटेंगे।
लोहारी के ग्रामीणों की मांग है कि वर्तमान राज्य सरकार 3 जनवरी 2017 के रेशम विभाग के कैबिनेट के प्रस्ताव को पुनः कैबिनेट में लाकर उसे बहाल करें।
धरना प्रदर्शन में श्री भाव सिंह, नरेश चौहान,सुखपाल तोमर,अमित चौहान,दिनेश तोमर,राजपाल,इन्दर सिंह,विजय चौहान,कुम्पाल चौहान,रमेश चौहान,दिनेश चौहान,संजय चौहान,टीकम सिंह,गजेंद्र चौहान,दिवान,संजीत वर्मा, श्रीमति ब्रहमी देवी,आशा चौहान,रेखा चौहान आदि उपस्थित रहे।