देहरादून , PAHAAD NEWS TEAM

उत्तराखंड बीजेपी चुनाव पैनल की दो दिवसीय बैठक कल से देहरादून में शुरू होगी. 14 और 15 जनवरी को होने वाली इस बैठक में उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 के लिए पार्टी के उम्मीदवारों की सूची को अंतिम रूप दिया जाएगा. उत्तराखंड में एक चरण में 14 फरवरी को मतदान होना है।

बीजेपी चुनाव पैनल की दो दिवसीय बैठक उत्तराखंड बीजेपी चुनाव पैनल की दो दिवसीय बैठक के बाद 16 जनवरी को दिल्ली में बीजेपी उत्तराखंड कोर ग्रुप के राष्ट्रीय नेताओं की बैठक होगी. कोर ग्रुप के नेता अपनी सूची को अंतिम रूप देंगे. उत्तराखंड भाजपा चुनाव पैनल द्वारा शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवार। दिलचस्प बात यह है कि भाजपा ने अभी तक उत्तराखंड के लिए चुनाव समिति का गठन नहीं किया है। सूत्रों का कहना है कि दो-तीन दिन में चुनाव समिति का गठन कर दिया जाएगा। दरअसल, इसके लिए बीजेपी को अपनी पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व की मंजूरी का इंतजार है.

उम्मीदवारों के नाम पर मंथन: उत्तराखंड बीजेपी चुनाव पैनल की दो दिवसीय बैठक में उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के उम्मीदवारों को लेकर हर पहलू पर चर्चा होगी. इसके बाद भाजपा उत्तराखंड कोर ग्रुप के राष्ट्रीय नेता इस सूची पर मंथन करेंगे। इसके बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा सूची पर एक नजर डालेंगे। उम्मीदवारों पर नड्डा के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी अपना फैसला देंगे.

एक सीट से हैं 2 से 3 उम्मीदवार शॉर्ट लिस्ट: सूत्रों के मुताबिक बीजेपी ने उत्तराखंड की 70 सीटों में से प्रत्येक पर दो से तीन उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट किया है. इससे समझा जा रहा है कि भाजपा उत्तराखंड कोर ग्रुप के राष्ट्रीय नेताओं की दिल्ली बैठक टिकट को अंतिम रूप देने में अहम भूमिका निभाएगी. भाजपा संगठन के राष्ट्रीय महासचिव बीएल संतोष पार्टी नेताओं के साथ बैठक कर चुनावी तैयारियों को परख चुके है.

दूर-दराज के इलाकों में बनेगी प्रचार की रणनीति : बैठक में इस बात पर भी चर्चा होगी कि राज्य के दूर-दराज के इलाकों में चुनाव प्रचार कैसे होगा. दरअसल, उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों के ज्यादातर इलाके दूर स्थित हैं। यहां सिग्नल न होने के कारण सोशल मीडिया की पहुंच कम है. इसको लेकर बीजेपी नेता रणनीति बनाएंगे।

दरअसल बीजेपी पहले ही ऐलान कर चुकी है कि वह वर्चुअल कैंपेन के लिए तैयार है. हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग और केंद्र सरकार से यह भी पूछा था कि क्या विधानसभा चुनाव का प्रचार वर्चुअल और ऑनलाइन वोटिंग हो सकता है। क्योंकि यहां कोरोना के मामले बहुत तेजी से बढ़े हैं. राज्य में कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन ने भी दस्तक दे दी है। ऐसे में राजनीतिक दलों को वर्चुअल प्रोपेगेंडा पर निर्भर रहना होगा।

ऐसे में बीजेपी की सभी बैठकों में चुनाव प्रचार पर अहम चर्चा होगी. पार्टी तय करेगी कि उत्तराखंड के सुदूर इलाकों में चुनाव प्रचार के लिए क्या रणनीति अपनाई जाएगी। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव एक ही चरण में 14 फरवरी को होने हैं। विधानसभा चुनाव 2022 का परिणाम 10 मार्च को घोषित किया जाएगा।