देहरादून, पहाड़ न्यूज टीम

पूर्ण प्रतिबंध के बावजूद जिले में अन्य दिनों की तरह आज भी सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग जारी रहा। सेक्टरों की दुकानों में दूध बूथों के अलावा सब्जी, फल विक्रेता, दुकानदार ग्राहकों को पॉलीथिन में सामान देते दिखे. एक तरफ जहां पाबंदी का कोई असर नजर नहीं आया तो दूसरी तरफ नगर निगम की टीम इसे सख्ती से लागू कराने के लिए चालान काटती नजर आई.

सिंगल यूज प्लास्टिक पर पूर्ण प्रतिबंध के बाद भी आज लोगों ने जमकर पॉलीथिन का इस्तेमाल किया। फल विक्रेताओं से लेकर शहर के बाजार में दूध बेचने तक इसका प्रयोग निडर होकर करते नजर आए।

अब प्रशासन ने इसे रोकने का अभियान शुरू किया है, लेकिन इसे रोकने के लिए युद्धस्तर पर काम करने की जरूरत है. शहर के सभी बाजारों और रेहड़ी-पटरी वालों के पास पॉलीथिन का खुलेआम इस्तेमाल हो रहा है. पर्यावरण और प्रदूषित वातावरण से बचने के लिए सरकार की ओर से रोकथाम के दावे तो किए गए हैं, लेकिन जमीनी स्तर पर अधिकारियों की ओर से काम नहीं होने के कारण पॉलीथिन का इस्तेमाल बंद नहीं हुआ है.

सिंगल यूस प्लास्टिक से निर्मित उत्पादों के आयात, विनिर्माण, भण्डारण, वितरण, बिक्री, उपयोग पर प्रतिबन्ध लगाया गया है।

निम्नलिखित विशेष रूप से प्रतिबंधित हैं :

पलास्टिक केरी बग
पलास्टिक इयर बडस
पलास्टिक की डंडियां गुबारों के लिये
पलास्टिक की डंडियां कैंडी फ्लॉस के लिये
पलास्टिक के झंडे
पलास्टिक की प्लेट, कप, गिलास
पलास्टिक के चमच, कांटे, चाकू, स्ट्रॉ
मिठाई को पैक करने वाली पन्नी
निमन्त्रण कार्ड के ऊपर लगाने वाली पन्नी
थर्मोकॉल से निर्मित कोई भी वस्तु
१०० माइक्रोन से कम मोटाई वाले प्लास्टिक और पी वी सी बैनर

कृपया करके किसी भी तरह के सिंगल् यूस पलास्टिक का इस्तेमाल ना करें और चालान / जुर्माने से बचें।

ये सूचना सभी को बताने व फॉरवर्ड करने का कष्ट करें।