देहरादून , पहाड़ न्यूज टीम

शुक्रवार को मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय में आयोजित आत्मनिर्भर उत्तराखंड @25 बोधिसत्व मंथन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भाग लिया. उन्होंने खिलाड़ियों और खेल से जुड़े लोगों से बातचीत करने के अलावा उनके विचार भी सुने और उन्हें सम्मानित भी किया।

जन संवाद पर आधारित विकास का मॉडल तैयार करने का प्रयासः आत्मनिर्भर उत्तराखंड @25 बोधिसत्व विचार मंथन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा प्रयास है कि प्रदेश में जन संवाद पर आधारित विकास का मॉडल तैयार किया जाए. इसे ध्यान में रखते हुए जनता के सुझावों के साथ-साथ बोधिसत्व विचार श्रंखला में प्राप्त सुझावों को भी बजट तैयार करने में शामिल किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य को खेलों में अपनी विशिष्ट पहचान बनानी चाहिए, खेल नीति तैयार की गई है ताकि खिलाड़ियों को बेहतर अवसर मिले. हमारा प्रयास है कि खेलों का रोड मैप भी तैयार किया जाए। यदि खेलों की बेहतरी और खेल प्रतिभाओं को बढ़ावा देने के लिए खेल नीति में और संशोधन करने की जरूरत है तो ऐसा किया जाएगा।

हर तीन माह में होगी खेलों के विकास की समीक्षा : मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य स्तर पर खेलों के विकास को लेकर हर तीन माह में समीक्षा की जाएगी और खिलाड़ियों से बातचीत कर उनकी समस्याओं के समाधान का भी प्रयास किया जाएगा. . मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में खेल से जुड़े लोग अच्छा काम कर रहे हैं. 2025 में उत्तराखंड को खेलों में रोल मॉडल बनाने का भी प्रयास किया जाएगा। हमारे राज्य में खेल प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। यहां का वातावरण लगभग सभी खेलों के लिए अनुकूल है। उन्होंने कहा कि वह सामान्य परिस्थितियों में रहने वाले प्रतिभाशाली खिलाड़ियों के सामने आने वाली समस्याओं से वाकिफ हैं।

जो जहां है, राज्य के हित में सर्वश्रेष्ठ दें- सीएम: मुख्यमंत्री ने कहा कि हम देवभूमि के निवासी हैं. धर्म हमारी अध्यात्म और योग की भूमि है। हम जहां भी हों, राज्य के हित में अपना सर्वश्रेष्ठ देने का काम करें। सरकार भागीदार और सहयोगी के रूप में सबके साथ खड़ी है। सभी के सहयोग से हमें उत्तराखंड को एक आदर्श और विकसित राज्य बनाना है। कार्यक्रम समन्वयक दुर्गेश पंत ने कहा कि उत्तराखंड को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से 27 अक्टूबर 2021 से शुरू हुए इस बोधिसत्व कार्यक्रम में सबसे पहले प्रधानमंत्री और भारत सरकार के वैज्ञानिक सलाहकार, नीति आयोग के उपाध्यक्ष और सभी देश के वैज्ञानिक संस्थानों के सलाहकार और देश के वैज्ञानिक संस्थानों के प्रमुखों एवं शीर्षस्थ वैज्ञानिकों, योजनाकारों तथा विशेषज्ञों ने भाग लिया। इस कार्यक्रम के तहत 05 प्रमुख और 08 लघु संगोष्ठियों सहित कुल 13 सेमिनार आयोजित किए गए हैं।

इस अवसर पर शूटर जसपाल राणा, वॉलीबॉल खिलाड़ी अरुण कुमार सूद, एथलीट गुरुफूल सिंह, मनीष सिंह रावत, प्रो एएस सजवाण, सुखबीर सिंह, गोल्फ खिलाड़ी डॉ. हाविश कुमार, यशोदा कर्णवाल, पर्वतारोही लवराज धर्मशक्तु, बास्केटबॉल खिलाड़ी शिवम आहूजा, तीरंदाजी से रमेश प्रसाद, बाक्सिंग खिलाड़ी नवीन चौहान, क्रिकेट खिलाड़ी प्रजींद्र सिंह एवं लियाकत अली खां शामिल थे. ऑनलाइन माध्यम से ओलंपियन मनीष रावत, बैडमिंटन खिलाडी लक्ष्य सेन, चिराग सेन, डीके सेन, एसोसिएट प्रो डॉ. सीपी भाटी, सुखबीर सिंह आदि मौजूद थे। और इन सभी ने अपने अपने विचार रखे .