ऋषिकेश , पहाड़ न्यूज टीम

वन विभाग की 10 हेक्टेयर जमीन पर 50 करोड़ रुपये की लागत से बन रहे कूड़ा निस्तारण प्लांट का विरोध गुमानीवाला क्षेत्र स्थित लालपानी बीट में फिर शुरू हो गया है. ग्रामीणों का आरोप है कि भारत सरकार को हकीकत से दूर रखते हुए लालपानी की आबादी वाले इलाके में कूड़ा निस्तारण प्लांट (ऋषिकेश ट्रेंचिंग ग्राउंड) लगाने की अनुमति ली गई है.

गत दिवस नगर निगम कार्यालय में सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने एकत्र होकर विरोध प्रदर्शन किया। आक्रोशित ग्रामीणों ने नारेबाजी करते हुए नगर निगम के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस दौरान ग्रामीणों को समझाने पहुंची मेयर अनीता ममगाईं को भी ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ा. समझाइश के बाद भी ग्रामीण शांत नहीं हुए तो महापौर ज्ञापन लेकर मौके से चली गई । जिससे ग्रामीणों का पारा और चढ़ गया।

ग्रामीणों का आरोप है कि भारत सरकार को हकीकत से दूर रखते हुए लालपानी की आबादी वाले इलाके में कूड़ा निस्तारण प्लांट (ऋषिकेश ट्रेंचिंग ग्राउंड) लगाने की अनुमति ली गई है. ग्रामीणों का कहना है कि जहां कूड़ा निस्तारण प्लांट लगाया जा रहा है, वहां कई स्कूल, पानी की टंकियां और घनी आबादी है। ऐसे में अगर कूड़ा निस्तारण प्लांट लगाया जाएगा तो जो स्थिति गोविंद नगर स्थित ट्रेंचिंग ग्राउंड की है वही हालत लालपानी क्षेत्र की होगी.