मसूरी , PAHAAD NEWS TEAM

कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने मसूरी में लोगों को नियमों का पालन करने की मिसाल दी है. इधर मंत्री गणेश जोशी वाहनों के काफिले को तय समय पर छोड़कर रिक्शा में सवार हो गए। रिक्शा से माल रोड होते हुए कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। इस दौरान रास्ते में उन्होंने लोगों से मुलाकात भी की। वहीं पर्यटकों और स्थानीय लोगों ने कैबिनेट मंत्री के इस कदम की जमकर सराहना की.

दरअसल, मसूरी के माल रोड पर शाम छह बजे के बाद वाहनों के प्रवेश पर रोक है। ताकि माल रोड पर चलने वाले लोगों को किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े. बुधवार को भी कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी शाम करीब सात बजे मसूरी पहुंचे, लेकिन समय की पाबंदी के चलते उन्होंने माल रोड के बाहर अपने काफिले को रोक लिया और खुद रिक्शे पर सवार होकर निकल पड़े . जिसे देख पर्यटक भी उनकी सादगी के दीवाने हो गए ।

जानिए क्या कहा था? मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि नियम-कायदों का पालन करना हम सबकी जिम्मेदारी है. मंत्री या अधिकारी अगर नियमों का पालन नहीं करते हैं तो इसका असर जनता पर भी देखने को मिलता है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का केदारनाथ और उत्तराखंड से विशेष लगाव है। केदारनाथ की अपनी हालिया यात्रा के दौरान, उन्होंने 400 करोड़ योजनाओं की आधारशिला रखी। साथ ही कहा कि पुष्कर सिंह धामी की युवा नेतृत्व टीम उत्तराखंड में 11 के साथ लगातार काम कर रही है.

उन्होंने कहा कि आंदोलनकारियों की पेंशन बढ़ा दी गई है. यदि देश का कोई सैनिक देश की सीमा पर शहीद होता है तो उसके परिवार के किसी सदस्य को भी सरकारी नौकरी दी जाएगी। पांचवां धाम मिलिट्री धाम उत्तराखंड में बन रहा है। यह सैन्य धाम अपने आप में विशाल और अनूठा होगा, जो पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बनेगा।

अधिकारियों को फटकार : कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने मसूरी पेट्रोल पंप के पास 32.5 करोड़ रुपये की लागत से निर्माणाधीन पार्किंग का निरीक्षण किया. इस दौरान पार्किंग के निर्माण में हो रही देरी को लेकर लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई. उन्होंने कहा कि मसूरी में चल रही योजनाओं का उद्घाटन मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को करना है, लेकिन कुछ योजनाओं पर अभी काम होना बाकी है. ऐसे में बीजेपी सरकार आधे-अधूरे कामों को समर्पित नहीं करती है. उन्होंने लोक निर्माण विभाग और कार्यकारी निकाय के अधिकारियों को 20 नवंबर से पहले पार्किंग का काम पूरा करने के निर्देश दिए.